आई एन एक्स एक्स मामले में पी चिदंबरम गिरफ़्तार:-

0
330
आई एन एक्स एक्स मामले में पी चिदंबरम गिरफ़्तार:-

 

आई एन एक्स एक्स मामले में पी चिदंबरम गिरफ़्तार:-

आई एन एक्स एक्स मामले में पी चिदंबरम गिरफ़्तार:-आई एन एक्स एक्स मामले में पी चिदंबरम गिरफ़्तार:- दिल्ली हाई कोर्ट द्वारा उनके द्वारा उनके अग्रिम जमानत को नामंजूर करने के 31 घंटे के नाटकीय उतार-चढ़ाव के बाद आखिरकार पी चिदंबरम को सीबीआई को सीबीआई चिदंबरम को सीबीआई को सीबीआई ने गिरफ्तार कर लिया जोर बाग स्थित उनके आवास पर करीब 1 घंटे तक चले नाटकीय घटनाक्रम में चिदंबरम को गिरफ्तार कर सीबीआई मुख्यालय ले जाया गया जहां उन्हें बृहस्पतिवार को सीबीआई की विशेष अदालत में पेश किया जाएगा |रात भर चिदंबरम सीबीआई चिदंबरम सीबीआई मुख्यालय में ही रहेंगे और उनसे पूछताछ की जाएगी ,गिरफ्तार होने से पहले पी चिदंबरम कांग्रेश मुख्यालय पहुंचकर प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कर खुद को बेगुनाह बताया उन्होंने कहा जिस मामले में उन्हें आरोपी बनाया जा रहा है उसकी किसी f.i.r. में उनका नाम नहीं है ,|

कांग्रेश मुख्यालय से वह जोर बाग स्थित अपने घर रवाना हो गए सीबीआई की तीन टीमें भी पीछे-पीछे भी पीछे-पीछे वहां पहुंच गए लेकिन तब तक मुख्य गेट बंद हो चुका था बाहर कांग्रेसी कार्यकर्ताओं का जमावड़ा लगा हुआ था रात 9:00 बजे सीबीआई ऑफिसर चिदंबरम के जोरा बाग स्थित घर पहुंचे कांग्रेसी कार्यकर्ताओं के विरोध व गेट ना खोलने खोलने के बाद सीबीआई अधिकारियों को दीवार फांद कर अंदर दाखिल होना पड़ा ,सीबीआई को दिल्ली पुलिस की भी मदद लेनी पड़ी ई डी के अधिकारी भी अधिकारी भी के अधिकारी भी अधिकारी भी ई डी के अधिकारी भी अधिकारी भी के अधिकारी भी अधिकारी भी डी के अधिकारी भी अधिकारी भी के अधिकारी भी वहां मौजूद थे सीबीआई टीम ने उनको हिरासत में लेने से पहले पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल और अभिषेक मनु सिंघवी की मौजूदगी में घर में ही चिदंबरम से पूछताछ की |
इससे पहले बुधवार सुबह 11 सीनियर वकीलों के साथ कपिल सिब्बल तत्काल सुनवाई के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंचे लेकिन कोर्ट ने सुनवाई से इनकार कर शुक्रवार की तारीख तय की ईडी और सीबीआई उनके खिलाफ लुक आउट नोटिस पहले ही जारी ही जारी नोटिस पहले ही जारी ही जारी कर चुकी थी ,कांग्रेस मुख्यालय में मीडिया के सामने आए चिदंबरम ने कहा कि मेरे बारे में कई भ्रम फैलाए गए आरोप लगाए गए कि मैं कानून मैं कानून से भाग रहा हूं लेकिन मैं अपने वकीलों के साथ था और दस्तावेज तैयार कर रहा था, वकीलों ने मुझे सुप्रीम कोर्ट जाने की सलाह दी मैंने यही किया इस मामले में मेरे या परिवार के खिलाफ कोई चार्ज सीट भी नहीं भी नहीं है ,लोकतंत्र की बुनियाद आजादी है अगर मुझे जिंदगी व आजादी के बीच में चुनने को कहा जाए तो मैं आजादी चुनूगा, एजेंसियों को शुक्रवार तक इंतजार करना चाहिए था| वही उनके बेटे ने उनकी गिरफ्तारी गिरफ्तारी के बाद कहा कि सरकार ने राजनीति से प्रेरित और बदले की भावना से कार्रवाई की है हमने जांच एजेंसियों का हमेशा सहयोग किया इस लड़ाई में न्याय की जीत होगी |वहीं कांग्रेसी आलाकमान ने कहा कि पूरी कांग्रेस चितमबरम के साथ है, राहुल गांधी ने ट्वीट किया “मोदी सरकार ईडी सीबीआई व मीडिया के एक समूह का उपयोग कर चिदंबरम के चरित्र का हनन कर रही है सत्ता के दुरुपयोग की निंदा करता हूं”, प्रियंका गांधी ने कहा, योग्य व सम्मानित राज्यसभा सदस्य चिदंबरम ने दशकों देश की सेवा की है हम उनके साथ हैं सच्चाई के लिए लड़ते रहेंगे चाहे नतीजे जो भी हो, बीजेपी प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने कहा चिदंबरम ने कुछ गलत किया है तो अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहना चाहिए जांच एजेंसियां सरकार के कहने से कुछ नहीं करते उनके पास स्वतंत्र काम करने की ताकत है |
हाई कोर्ट से अग्रिम जमानत रद्द होने के बाद बुधवार सुबह से ही सुप्रीम कोर्ट में चिदंबरम के वकीलों की भागदौड़ जारी रहे सुबह 10:00 बजे चिदंबरम के वकील कपिल सिब्बल ने जस्टिस रमना की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय पीठ के समक्ष इस मामले का उल्लेख करते हुए याचिका पर जल्द से जल्द सुनवाई की अपील की जिस पर जस्टिस रमन्ना ने कहा कि वह मामले को सूचीबद्ध करने के लिए तत्काल फाइल मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के पास भेज रहे हैं तब सिब्बल ने कहा जब तक मामले की सुनवाई नहीं हो रही तब तक उनके मुवक्किल को गिरफ्तारी से छूट प्रदान की जाए | लेकिन मामला सूचीबद्ध ना होने के कारण जस्टिस रमना इस पर सुनवाई से इनकार सुनवाई से इनकार कर दिया और शुक्रवार की तारीख तय की|
भारतीय राजनीति में यहां एक बड़ी विडंबना यह है कि भ्रष्टाचार के मामलों में ऊंचे और रसूखदार लोगों के लिए सजा कम ही मिल पाती है लिहाजा इस मामले की गहराई से छानबीन करके सच्चाई लाना चाहिए जिस तरह से ईडी और सीबीआई ने इस मामले खुलासा किए हैं उसकी गंभीरता को देखते हुए इस मामले में किसी ठोस नतीजे पर पहुंचना आवश्यक है सीबीआई और ईडी के मुताबिक आईएनएक्स मीडिया से 305 करोड़ रुपए की धनराशि प्राप्त करने के लिए विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड की मंजूरी देने के एवज में तत्कालीन वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने उनके प्रमोटर मुखर्जी दंपति को अपने बेटे की मदद करने के लिए कहा था प्रवर्तन निदेशालय का आरोप है कि आईएनएक्स मीडिया केस में में रिश्वतखोरी के पैसे से देश-विदेश में संपत्तियां खरीदी गई हैं ,ईडी के जब्ती आदेश के मुताबिक वे पी चिदंबरम से पूछना चाहते हैं कि उनके बेटे कार्ति ने स्पेन में टेनिस क्लब यूके में कॉटेज के साथ देश-विदेश में जो ₹54 करोड़ की संपत्तियां खरीदी उनका स्रोत क्या है? ईडी के मुताबिक संपत्तियां आईएनएक्स मीडिया केस में घूस के पैसे से में घूस के पैसे से के पैसे से खरीदी गई थी |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here